Search
  • Reshmasundarrajan Reshmasundarrajan

Dedicated to U(Mom)

माँ तेरी याद….


माँ तेरी याद को मैं क्या समझू


सुबा की वो पहली धूप


याह शाम की वो चंचल हवा


याह रात की वो चंदा मामा के कहानियां और किसो की टोली


या तेरा आचल में बीठा उस वक्त


वो बचपन के सुख भरी लोरी


कभी तेरा जाना का दिल से सोचा तो ना था


तेरी अहमियत का ख्याल हमें तेरा जाना के बाद

​​तस्वीरो से लागा


एक काश…


दिल की रहो में दौड़ता है


और एक ख्वाहिश के


तू अगर होती

तो ये होता….

तू अगर होती तो वो कर्ता.


वक्त का भी ये कैसा ये बेरेहम उसूल है


जिस्नाहे कद की वो जान पाया


और जिस्ना नहीं की


वो मान ही मान पछताया


पर अगर ये आलम है तो क्यों है


क्यों अपनो की कीमत हम उनका

तस्वीर में जाने के बाद समजते हैं हम


क्यों उनका शोक करता है ये मान


क्या यही है वो यादों की रौनक है


जिस मैं आज कल रहता है

हम l


******************************************


Memories of you….(Mom)


Oh! Mom what should I say -

On your bestowed memories

Some days feel them caressing like rays of dawns

Or is it gusts felt on dusk

Sometimes it's bedtime stories on the enchanted moons

On other days mesmerising feels of your laps as a toddler bliss of lullaby


Never toppled on a nightmare of feeling emptiness of your lost

Now recognize the space after your absence and clenching onto your picture frames


The heart wanders on-

If only a boon was granted

Would go back in time…

Would do this...

Would do that….


Time has its vulnerable clasps of peel

The person who has valued time

Knows on importance of losing on time

And ones who lost in time have regret pangs of lifetimes


Why is it that the value of a person is known only when turned into picture frames?

Why does the heart mourn going numb on those pastures of pain


Maybe these are humbled alleys of thoughts

Where hearts reside nowadays.




1 view0 comments

Recent Posts

See All